Breaking News
Home / Interesting / कर्नाटक के नए मु

कर्नाटक के नए मु

भाजपा 104, कांग्रेस 78 और जेडीएस 37, ये वो आकंड़े हैं जो कर्नाटक विधानसभा चुनाव में आये हैं. सबसे बड़ी पार्टी होने के बाद भी बीजेपी सरकार तो नहीं बना पाई लेकिन जनता ने जिसे नकार दिया और सत्ता से दूर रखना चाहा, उसने सत्ता के नशे में गठबंधन करके कर्नाटक में सरकार बना ली. अगर आपको याद हो तो पता चलेगा कि जब कर्नाटक चुनाव के लिए प्रचार हो रहे थे तब जेडीएस और कांग्रेस एक दूसरे के खिलाफ जमकर बयानबाजी कर रहे थे.

source      कुमारस्वामी ने 23 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी

एक दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ने मैदान में उतरे दोनों दलों ने जनता को विश्वास भी दिलाया था कि वो एक दूसरे से अलग हैं और नतीजे भी अलग चाहते हैं, लेकिन जैसे ही नतीजे उनके मुताबिक नहीं आये, वैसे ही अवसर को देखते हुए दोनों दलों ने एक दूसरे के साथ गठबंधन कर लिया. हद तो ये हो गयी कि जेडीएस से अधिक सीटें जीतने वाली कांग्रेस ने मुख्यमंत्री पद भी जेडीएस को दे दिया. इन सबका एक ही मतलब था कि किसी तरह से बीजेपी को सत्ता से दूर रखा जाये.

source कर्नाटक मुख्यमंत्री कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात करते हुए

फ़िलहाल इसमें एक बात और गौर करने वाली है कि अभी कर्नाटक की बागडोर संभाल रहे मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने कुछ दिन पहले कर्नाटक की जनता का मजाक उड़ाते हुए बयान दिया था कि वो लोगों के नहीं बल्कि कांग्रेस के रहमो-करम से मुख्यमंत्री बने हैं. इस बयान के बाद कुमारस्वामी की काफी फजीहत भी हुई थी.

ज़ी न्यूज़ के मुताबिक इस बयान को ज्यादा दिन नहीं हुए थे कि कुमारस्वामी ने एक और बयान दे दिया जिसके बाद से माना जा रहा है कि कुमारस्वामी जनता से काफी गुस्साए हुए नजर आ रहे हैं और अपने मुख्यमंत्री बनने के पीछे जनता नहीं बल्कि राहुल गांधी को कारण बता रहे हैं.

जाहिर है कुमारस्वामी के इस बयान से राहुल गांधी के प्रति उनकी भक्ति नजर आ रही है

बता दें कि कुमारस्वामी ने अपने इस नए बयान में कहा है कि, “मुझे भले ही आज जनता का आशीर्वाद नहीं प्राप्त है, लेकिन पुण्यात्मा राहुल गांधी जी का आशीर्वाद जरूर मिला है और उनके ही आशीर्वाद से मुझे सत्ता मिली है.”

इस बयान के बाद से माना जा रहा है कि कुमारस्वामी राहुल गांधी के गुणगान में इतना घुल गये हैं कि वो उनके आगे जनता को भी भूल गये हैं. वो जनता, जिसके लिए वो आज मुख्यमंत्री हैं. फ़िलहाल जनता सबकुछ बड़ी ख़ामोशी से देख रही है और समय आने पर जवाब देगी.