Breaking News
Home / Breaking News / सर्जिकल स्ट्राइक पर मनोहर पर्रिकर ने दिया कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को ऐसा जवाब, जिससे बंध जाएगी उनकी घिग्घी

सर्जिकल स्ट्राइक पर मनोहर पर्रिकर ने दिया कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को ऐसा जवाब, जिससे बंध जाएगी उनकी घिग्घी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा बार-बार भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक पर संदेह जताने पर भारत के पूर्व रक्षामंत्री एवं गोवा के वर्तमान मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने ऐसा जवाब दिया हैं जिससे राहुल गांधी की घिग्घी बंध जाने वाली है, जिसके बाद अब शायद ही राहुल इस मिशन पर सवाल खड़ा करने की जुर्रत करेंगे. आइये हम आपको बताते हैं कि आखिर क्या हैं वह जवाब

पर्रिकर ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के उस सवाल पर तीखा हमला किया हैं जिसमें उन्होंने भारतीय सैनिकों के द्वारा किये गये सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल खड़ा किया था. उन्होंने कहा कि राहुल के इस तरह की बेतुके सवाल से किसी भी देश या देश के सैनिकों की छवि धूमिल हो सकती हैं. उन्होंने कहा कि राहुल को इस मिशन पर शायद तब यकीन होता जब भारतीय सैनिक उन्हें अपने साथ ले जाती.

प्रेस को संबोधित करते गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ( image source: financial express)

उन्होंने कांग्रेस की नकारात्मक एवं अविश्वास फैलाने की निंदा करते हुए कहा कि कांग्रेस की यह रणनीति किसी भी देश के लिए घातक सिद्ध हो सकती हैं. आपको बता दे कि पर्रिकर ने यह बयान सोमवार को एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान दिया था जिसमें वे अपने बीजेपी कार्यकर्ताओ को संबोधित कर रहें थे.

पर्रिकर ने इस संबोधन के दौरान कहा कि मेरा उद्देशय किसी भी पार्टी की छवि को नुकसान पहुंचाने का नहीं है. किसी भी पार्टी को अपनी छवि को सुरक्षित रखने के लिए उन्हें इस तरह की बयानबाजी से बचना चाहिए.

29 सितंबर 2016 को किया गया था सर्जिकल स्ट्राइक ( image source: aaj tak)

सैनिकों को देना चाहिए था ये आदेश

पर्रिकर ने कहा कि  विपक्षी पार्टियां हमेशा ये दावा करती रहीं हैं कि यह स्ट्राइक नहीं हुआ हैं . क्या मुझे यह स्ट्राइक उन्हें बता कर करना चाहिए था या उन्हें अपने साथ ले जाना चाहिए था. उन्होंने कहा कि मैने यह गलत किया था जो मैने सैनिकों को यह आदेश नहीं दिया था कि वो सर्जिकल स्ट्राइक के समय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भी अपने साथ ले जाये और इस मिशन को अंज़ाम दें तब शायद ही उन्हें यह यकीन हो पाता.

सिर्फ चार व्यक्तियों को थी जानकारी

यह स्ट्राइक बहुत ही गोपनीय ढंग से की गई थी जिसकी जानकारी सिर्फ मुझे, प्रधानमंत्री, सैन्य संचालन महानिदेशक एवं सैन्य प्रमुख को था.  मुझे यह यकीन नहीं था कि कांग्रेस अपनी राजनीति हित को साधने एवं वर्तमान सरकार की छवि को नुकसान पहुंचाने के लिए किसी भी हद तक गिर सकती हैं.

कुछ माह पहले ही वीडियो जारी किया गया था

आपको बता दें कि केंद्र सरकार एवं भारतीय सैनिकों ने कुछ माह पहले ही सर्जिकल स्ट्राइक से संबंधित वीडियो को आमजन से साझा किया था जिस वीडियो मे भारतीय जवान पाकिस्तानी बंकरों एवं सीमा के पास छिपे आतंकवादियों को मौत के घाट उतारते नज़र आ रहें थे. उसके बाद भी राहुल का इस तरह का बयानबाजी करना एवं गलत तथ्य देना सहीं नहीं हैं.

मनोहर पर्रिकर कुछ दिनों पहले ही अमेरिका से इलाज कराकर वापस स्वदेश लौटे थे जिसके बाद उनकी यह पहली कांफ्रेंस थी .

क्या हमें ऐसे पार्टी का समर्थन करना चाहिए जो भारतीय सैनिको पर सवालियां निशान खड़ा करती हो?