Breaking News
Home / Interesting / ब्रेकिंग: राफेल डील पर मोदी सरकार के खिलाफ कोर्ट जायेंगे स्वामी? जानिए पूरी सच्चाई

ब्रेकिंग: राफेल डील पर मोदी सरकार के खिलाफ कोर्ट जायेंगे स्वामी? जानिए पूरी सच्चाई

सदन में मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश करके विपक्ष ने अपनी जमकर किरकिरी कराई है. विपक्ष का ये अविश्वास प्रस्ताव कैसे धड़ाम से गिरा था, इससे सभी वाकिफ हैं. देश के अधिकतर राज्यों में हार का सामना कर चुके राहुल गाँधी मोदी सरकार को घेरने की लाख कोशिशें कर रहे हैं लेकिन हर बार वह खुद ही उल्टे फंस जाते हैं. सदन में मुंह की खाने के बाद राहुल गाँधी अब मोदी सरकार पर राफेल डील को लेकर निशाना साध रहे हैं. जिसके चलते वह रिपब्लिक टीवी के खुलासे के बाद उल्टे फंस गये थे. राफेल डील को लेकर इस समय एक बड़ी खबर आ रही है.

Image Source-ZeeNews

जानकारी के लिए बता दें प्रसिद्ध वेबसाइट Indiatimes.com ने अभी हाल ही में एक खबर छापी थी, जिसमें उन्होंने लिखा था कि सुब्रमण्यम स्वामी ने राफेल डील को भ्रष्ट बताया है और वह इसके चलते कोर्ट में जायेंगे. indiatimes की तरफ से जारी की गयी इस खबर को देखने के बाद राजनीति में हड़कंप मच गया कि आखिर ऐसा कैसे हो सकता है, जब इस खबर के बारे में बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी को पता चला  तो उन्होंने तत्काल इस संस्था पर कार्रवाई की. इतना ही नहीं लोगों को गलत खबर फ़ैलाने के चलते उन्होंने ट्वीट करके इस बात की जानकारी भी दी. इस खबर की सच्चाई आपके होश उड़ा देगी.

स्वामी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि indiatimes ने मुझको लेकर खबर जारी की थी, जिसमें उन्होंने लिखा है कि राफेल डील भ्रष्ट है और वह इसके खिलाफ अदालत में जायेंगे. उन्होंने लिखा है कि यह पूर्ण रूप से बकवास है मैंने ऐसा कुछ नहीं कहा है. indiatimes की तरफ से जारी की गयी यह खबर पूरी तरह से नकली और फेक है. स्वामी ने गलत खबर फ़ैलाने के चलते indiatimes को जमकर लताड़ा.उनकी इस प्रतिक्रिया के बाद indiatimes ने ट्वीट करते हुए सफाई दी है और अपनी गलती के चलते मांफी मांगी है.

indiatimes ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि हमने राफेल डील के चलते सुब्रमण्यम स्वामी को लेकर एक स्टोरी प्रकाशित की थी. indiatimes ने सफाई देते हुए लिखा कि यह स्टोरी हमने 2015 में एजेंसी द्वारा मिली प्रतिलिपि के आधार पर प्रकाशित की थी. दरअसल indiatimes ने पीटीआई एजेंसी का नाम लेते हुए अपने सफाई रखी. जिसके चलते indiatimes ने स्वामी जी और अपने पाठकों से मांफी मांगी है.

दरअसल indiatimes ने यह कहते हुए किनारा करना चाहा कि पीटीआई से मिली प्रतिलिपि के आधार पर हमने खबर प्रकाशित की थी. जिसके बाद स्वामी जी ने पीटीआई के ऊपर एक करोड़ की मानहानि का दावा ठोंक दिया. वरिष्ठ वकील सुरेश जी ने जानकारी देते हुए बताया है कि बेशक पीटीआई एक समाचार स्रोत है जिसके चलते पीटीआई के खिलाफ 1 करोड़ की मानहानि का दावा ठोंक गया तो पीटीआई ने इस बात से इंकार कर दिया है कि उसने इस तरह की कोई स्टोरी जारी नहीं की है.

पीटीआई ने भी ट्वीट कर यह जानकारी दे दी है कि उसने स्वामी के खिलाफ कोई ऐसी स्टोरी जारी नहीं की है. जिसके चलते indiatimes की मुसीबतें बढ़ गयी हैं हालाँकि उन्होंने स्वामी जी मांफी मांगी है. स्वामी जी को बदनाम करने के लिए यह किसी दल की साजिश भी हो सकती है. स्वामी जी को लेकर आई इस खबर की सच्चाई ने सभी के होश उड़ा दिए हैं.