Breaking News
Home / Uncategorized / वाजपेयी कैबिनेट में मंत्री रहे अटल जी के इस खास दोस्त को अभी तक नही गयी उनकी दुखद खबर, ये है कारण

वाजपेयी कैबिनेट में मंत्री रहे अटल जी के इस खास दोस्त को अभी तक नही गयी उनकी दुखद खबर, ये है कारण

देश के पूर्व प्रधानमंत्री और राजनेता अटल बिहारी वाजपेयी जी के निधन से पूरा देश दुखी है. लंबी बीमारी के बाद अटल जी ने दिल्ली के AIIMS अस्पताल मे आखिरी सांस ली. उनके निधन की खबर पूरे देश में आग की तरह फ़ैल गयी. हालाँकि एक बीजेपी नेता जो अटल जी के बेहद करीब थे, उन्हें अटल जी के निधन के बारे में कोई जानकारी ही नही है. जानिये कौन है ये नेता और क्या है इसके पीछे की वजह.

Source-zeenews.india.com

दरअसल अटल जी का निधन गुरूवार को दिल्ली में हो गया था. निधन की खबर सामने आने के बाद ही पूरा देश शोक में डूब गया था. पूरे देश में सात दिन तक राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया था लेकिन एक नेता को अटल जी के निधन के बार मे कोई जानकारी ही नही है. हम बात कर रहे हैं पूर्व बीजेपी नेता जसवंत सिंह की. कभी अटल जी के सहयोगी और दोस्त जसवंत सिंह को अटल जी के निधन के बारे में कोई जानकरी नही है. इस बात का खुलासा खुद उनके बटे और राजस्थान के बारमेर जिले के शिव से भाजपा विधायक मानवेंद्र सिंह ने किया है.

Source-Getty Images

मानवेन्द्र सिंह ने एक लेख के जरिये बताया कि उन्हें विज्ञानं के चमत्कार पर इतना यकीन नही है कि वे अपने पिता जी को अटल जी के निधन की खबर सुनाने का जोखिम उठा पाए. बता दें कि जसवंत सिंह काफी समय से बीमार चल रहे है. कुछ समय पहले ही उन्हें ब्रेन हैमरेज हो गया था जिसके बाद वे कोमा में भी चले गये थे. इस समय वे डॉक्टर की निगरानी में है. मानवेन्द्र ने बताया कि अगर उन्हें अटल जी के निधन की खबर बतायी जाए तो वे अपने दोस्त के निधन पर शोक महसूस कर सकने की स्थिति में नही है. उनके सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है.

Source-TheHealthSite.com

जसवंत सिंह बीजेपी में पहली पंक्ति में बैठने वाले नेता थे. वाजपेयी सरकार में जसवंत सिंह केन्द्रीय मंत्री भी रह चुके है. जिन्ना पर लिखे गये पुस्तक पर उठे विवाद के बाद उन्हें पार्टी से बाहर किया गया था. करीब तीन साल पहले वे अपने घर में गिर गये थे तब से उनकी हालत में सुधार नही हो रहा है. मानवेन्द्र ने बताया कि उनकी भी हालत अटल जी जैसी हो गयी है, ना कुछ खा पाते है और ना ही कुछ बोल पाते है. इसलिए अटल जी के निधन की खबर उन्हें नही बताई गयी है.